Wednesday, 30 October 2013

शायरी हिंदी में


सीढ़ियाँ उनके लिए बनी हैं,
जिन्हें छत पर जाना है |
लेकिन जिनकी नज़र आसमान पर हो,
उन्हें तो रास्ता ख़ुद बनाना है |

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.