Sunday, 15 December 2013

हिंदी शेरो शायरी


आंसू पौछकर हंसाया है मुझे
मेरी गलती पर भी सीने से लगाया है मुझे
कैसे प्‍यार न हो ऐसे दोस्‍त से
जिसकी दोस्‍ती ने जीना सिखाया है मुझे

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.