Friday, 13 March 2015

यादें शायरी


हमारे बिन अधूरे तुम रहोगे,
कभी चाहा था किसी ने,तुम ये खुद कहोगे,
न होगे हम तो किसी ने ,तुम ये खुद कहोगे,
मिलेगे बहुत से लेकिन कोई हम सा पागल ना होगा.

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.