Wednesday, 15 April 2015

कुछ दर्द भरी हिन्दी शायरी


जाने कभी गुलाब लगती हे
जाने कभी शबाब लगती हे
तेरी आखें ही हमें बहारों का ख्बाब लगती हे
में पिए रहु या न पिए रहु,
लड़खड़ाकर ही चलता हु
क्योकि तेरी गली कि हवा ही मुझे शराब लगती हे

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.